Biography

रबिन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी – Ravindranath Tagore Biography 2023

लोन और सभी जानकारी के लिए Join WhatsApp Group Join Now

Table of Contents

रबिन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी (Rabindranath Tagore Biography in hindi)

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को बंगाल के जोरासांको गांव में हुआ था। रवींद्रनाथ ने अपना बचपन घर पर अपने दादा के साथ बंगाली, संस्कृत, अंग्रेजी और फ्रेंच का अध्ययन करते हुए बिताया। उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय में अपनी औपचारिक शिक्षा पूरी की, जहाँ उन्होंने लेखन की ओर मुड़ने से पहले इतिहास और दर्शन का अध्ययन किया।

रबिन्द्रनाथ टैगोर की शिक्षा (Rabindranath Tagore Education)

टैगोर को बंगाली साहित्य के अग्रणी और एक दार्शनिक के रूप में जाना जाता है जिन्होंने कला की आधुनिक दुनिया की समझ को फिर से आकार दिया। टैगोर ने बंगाली और अंग्रेजी में कविताएँ, उपन्यास, निबंध और लघु कथाएँ लिखीं। उन्होंने संगीत और नृत्य की भी रचना की। उनके काम का चीनी, स्पेनिश और रूसी सहित कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है।

[table id=8 /]

रबिन्द्रनाथ टैगोर के जीवन की कार्यशैली

टैगोर को सबसे महान मानवतावादियों में से एक के रूप में जाना जाता है, जो रहस्यमय कविता, लघु कथाओं, उपन्यासों, नाटकों और निबंधों के लेखक हैं। उन्होंने अपने साहित्यिक करियर की शुरुआत आठ साल की उम्र में कविताएँ लिखने से की थी। उनकी कविता की पहली पुस्तक तब प्रकाशित हुई थी जब वे मात्र ग्यारह वर्ष के थे।

गीतांजलि (गीत प्रसाद) के प्रकाशन के बाद रवींद्रनाथ टैगोर पूरे बंगाल में एक घरेलू नाम बन गया, जिसे उन्होंने अपने पूरे जीवन में अंग्रेजी के साथ-साथ अपनी मूल बंगाली भाषा में लिखा।

रबिन्द्रनाथ टैगोर की प्रमुख रचनाये

रवींद्रनाथ टैगोर एक बंगाली बहुश्रुत थे जिन्होंने अपने क्षेत्र के साहित्य और संगीत को नया रूप दिया। उन्होंने कविता, गद्य, नाटक, नृत्य और उपन्यास “शेशेर कबिता” लिखा, जिसे पहला आधुनिक बंगाली उपन्यास माना जाता है। रवींद्रनाथ टैगोर ने अपनी पहली कविता 1877 में प्रकाशित की थी जब वह सिर्फ तेरह साल के छद्म नाम भानु भैया (जिसका अर्थ है “पृथ्वी का छोटा भाई”)। 1881 में उन्होंने “द इंडियन मिरर” नामक एक स्थानीय समाचार पत्र के लिए लिखना शुरू किया। टैगोर की विरासत में उनकी काव्य कृतियाँ शामिल हैं जिनमें गीतांजलि (गाने की पेशकश), कविराज (द स्टोरीटेलर), घरे-बैरे (द होम एंड द वर्ल्ड) और कई अन्य शामिल हैं। उन्होंने भारतीय इतिहास, शिक्षा और संस्कृति पर कुछ सबसे प्रभावशाली निबंध लिखे। टैगोर ने गीतांजलि (गाने की पेशकश) लिखी, जो बंगाली में लिखी गई कविताओं का एक संग्रह है, जिसे “भारत की गीतपुस्तिका” कहा जाता है और यह अब तक की सबसे लोकप्रिय कृतियों में से एक है।

रबिन्द्रनाथ टैगोर की उपलब्धिया

रबिन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी जयंती | Rabindranath Tagore
रबिन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी जयंती | Rabindranath Tagore

उन्हें भारत के जन गण मन राष्ट्रगान जैसे सामाजिक सुधार पर उनके कार्यों के लिए भी जाना जाता है, जिसे उन्होंने स्वामी विवेकानंद के साथ-साथ बांग्लादेश के राष्ट्रगान – अमर सोनार बांग्ला – के साथ लिखा था, जिसे उन्होंने शेख मुजीबुर रहमान के साथ मिलकर बनाया था।

रबिन्द्रनाथ टैगोर की प्रमुख साहित्यिक

टैगोर का साहित्यिक उत्पादन विशाल था: उपन्यास, लघु कथाएँ, नाटक, निबंध, कविताएँ, गीत और नृत्य रचनाएँ। उनकी सबसे प्रसिद्ध रचनाओं में उनका उपन्यास गोरा (द सॉन्ग ऑफ द ल्यूट) शामिल है, जिसे 1861 में लिखा गया था; 1877 और 1885 के बीच लिखी गई गीतांजलि (गाने की पेशकश); द होम एंड द वर्ल्ड (1903); माली (1908); द लास्ट पोम (1917); और विदेश से पत्र (1920)।

टैगोर के काम की विशेषता इसकी गीतात्मकता और आत्मनिरीक्षण है। उनकी कविता अक्सर प्रकृति के प्रति प्रेम, अंतरंग संबंधों, मानवीय भावनाओं और सामाजिक परिवर्तन जैसे आध्यात्मिक विषयों से संबंधित होती है। उनका लेखन धार्मिक सहिष्णुता के लिए महिलाओं के अधिकारों के परिप्रेक्ष्य से सार्वभौमिक मानवीय पहचान के मुद्दों पर भी चर्चा करता है।

टैगोर ने बंगाली गद्य और पद्य में कविता, लघु कथाएँ, उपन्यास और निबंध की 50 से अधिक पुस्तकें लिखीं, जिनका अंग्रेजी, फ्रेंच, जापानी और स्पेनिश सहित दुनिया की कई प्रमुख भाषाओं में अनुवाद किया गया है। रवींद्रनाथ टैगोर का जीवन संघर्ष और सफलता से भरा था। पुजारी बनने के असफल प्रयास के बाद, उन्होंने अपनी मूल भाषा – बंगाली में कविताएँ लिखना शुरू किया। उनका पहला उपन्यास ‘गोरा’ 1892 में प्रकाशित हुआ था, जिसके बाद ‘चोखेर बाली’ और ‘काबुलीवाला’ जैसे कई अन्य उपन्यास आए।

Rabindranath Tagore Awards

वह 1913 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय थे। रवींद्रनाथ टैगोर एक बंगाली बहुश्रुत हैं जिन्होंने भारत और बांग्लादेश के साहित्यिक और सांस्कृतिक परिदृश्य को फिर से आकार दिया।

उन्हें अपने जीवनकाल में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार (1913), भारत रत्न (1955), और पद्म विभूषण (1959) सहित कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुए।

रबिन्द्रनाथ टैगोर की म्रत्यु (Rabindranath Tagore Death)

रवींद्रनाथ टैगोर बंगाली साहित्य के इतिहास के सबसे प्रभावशाली लेखकों में से एक हैं। उनका जन्म 1861 में हुआ था और उनकी मृत्यु 7 August 1941, Jorasanko Thakurbari, Kolkata में हुई थी।

 Most Asked FAQs About  Rabindranath Tagore?

Q.Who is Rabindranath Tagore?

Rabindranath Tagore was an Indian writer, philosopher, and polymath from Bengal. He was a celebrated poet, novelist, playwright, and composer, and is considered one of the most important figures in modern Indian literature.

Q.What is Tagore’s most famous work?

Tagore’s most famous work is “Gitanjali” (Song Offerings), a collection of poems that he wrote in Bengali and English. He was awarded the Nobel Prize in Literature in 1913 for this book.

Q.How did Rabindranath Tagore die?

Rabindranath Tagore died on August 7, 1941, at the age of 80, in Calcutta, India. He had been suffering from various health issues, including heart disease, for several years before his death.

What did Rabindranath Tagore do for education?

Tagore was a strong believer in the power of education, and he founded the Visva-Bharati University in 1921, which aimed to provide education that was not limited to formal academics but also included the arts, culture, and spiritual development.

Q.What is Rabindranath Tagore famous for?

Rabindranath Tagore is famous for his contributions to Indian literature and culture. He is considered one of the greatest poets and writers in the Bengali language and his works have been widely translated into other languages. He was also a prominent social reformer, and his educational and cultural ideals had a significant influence on India’s independence movement.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
मार्केट में मचेगा धूम! Hero ला रहा है एक दमदार माइलेज वाली बाइक देख कर उड़ जाएंगे आपके होश। ₹15,000 से कम में बवाल काटने आ रहा POCO का सबसे पतला 5G फोन, 6000mAh बैटरी, AI कैमरा से है लैस iPhone 16 के धांसू फीचर्स लीक… सुपर ब्राइट स्क्रीन और अपग्रेड्स कैमरा, क्या बटन हो जाएंगे गायब? Kawasaki Ninja ZX-4RR की पहली झलक आई सामने, इन खूबियों के साथ इंडियन मार्केट में मारेगी एंट्री CBSC 12th Board के नतीजे जारी, ये है देश के टॉप 3 ऑल इंडिया टॉपर